About Us  |  Contact Us  |  Faq's   |  Call :: 9899842558    
 
Online Astrology Course Syllabus 
How to learn online Fees & Payments
100+ Case Studies FREE DEMO
  JOIN FREE   STUDENT LOGIN
Saral Jyotish Upay - भगवती सरस्वती के ये मंत्र देंगे आपको ज्ञान, विद्या, धन और सुख-समृद्धि
Education  |  Marriage  |  Career  |  Foreign Travel  |  Gem Stones  |   All Reports  |   Remedies  |  Products  | Free Numerology Predictions |  New User  |   Sign In
Horoscope 2018      Aries    |    Taurus   |    Gemini   |    Cancer   |    Leo   |    Virgo   |    Libra   |    Scorpio   |    Sagittarius   |    Capricorn   |    Aquarius   |    Pisces 
   
         
         
SERVICES
 
Phone Consultation
Detailed Life Guidance
Vastu Consultation
Birth Time Rectification
Post Marriage Problems
Match Making
Business Prospects
Health
All Reports
ONLINE VEDIC COURSES
Online Regular Classes
Excellent Syllabus
Payment Methods
Astro Shop
 
Saral Jyotish Upayas
Astrology Remedies for Life Problems
Astrology Remedies for Life Problems
Goddess LAKSHMI MANTRA for money and finance
 
 
मकर संक्रांति : सूर्य के उत्तरायन का मंगल पर्व - Saral Jyotish Upay
 
 


उत्तरायण में सूर्य के प्रवेश का अर्थ कितना गहन है और आध्यात्मिक व धार्मिक क्षेत्र के लिए कितना पुण्यशाली है, इसका अंदाज सिर्फ भीष्म पितामह के उदाहरण से लगाया जा सकता है। महाभारत युग की प्रामाणिक आस्थाओं के अनुसार सर्वविदित है कि उस युग के महान नायक भीष्म पितामह शरीर से क्षत-विक्षत होने के बावजूद मृत्यु शैया पर लेटकर प्राण त्यागने के लिए सूर्य के उत्तरायण में प्रवेश का इंतजार कर रहे थे।

मत्स्य पुराण और स्कंद पुराण में मकर संक्रांति के बारे में विशिष्ट उल्लेख मिलता है। मत्स्य पुराण में व्रत विधि और स्कंद पुराण में संक्रांति पर किए जाने वाले दान को लेकर व्याख्या प्रस्तुत की गई है। यहाँ यह जानना जरूरी है कि इसे मकर संक्रांति क्यों कहा जाता है? मकर संक्रांति का सूर्य के राशियों में भ्रमण से गहरा संबंध है। वैज्ञानिक स्तर पर यह पर्व एक महान खगोलीय घटना है और आध्यात्मिक स्तर पर मकर संक्रांति सूर्यदेव के उत्तरायण में प्रवेश की वजह से बहुत महत्वपूर्ण बदलाव का सूचक है। सूर्य 6 माह दक्षिणायन में रहता है और 6 माह उत्तरायण में रहता है। परंपरागत आधार पर मकर संक्रांति प्रति वर्ष 14 जनवरी को पड़ती है।

पंचांग के महीनों के अनुसार यह तिथि पौष या माघ मास के शुक्ल पक्ष में पड़ती है। 14 जनवरी को सूर्य प्रति वर्ष धनु राशि का भ्रमण पूर्ण कर मकर राशि में प्रवेश करते हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार मकर राशि बारह राशियों में दसवीं राशि होती है। संक्रांति का अर्थ है बदलाव का समय। संक्रांति उस काल को या तिथि को कहते हैं, जिस दिन सूर्य एक राशि में भ्रमण पूर्ण कर दूसरी राशि में प्रवेश करता है। इसे पुण्यकाल माना जाता है और संक्रमण काल के रूप में भी स्वीकार किया जाता है।

आध्यात्मिक उपलब्धियों एवं ईश्वर के पूजन-स्मरण के लिए इस संक्रांति काल को विशेष फलदायी माना गया है। इसलिए सूर्य जिस राशि में प्रवेश करते हैं उसे उस राशि की संक्रांति माना जाता है। उदाहरण के लिए यदि सूर्य मेष राशि में प्रवेश करते हैं तो मेष संक्रांति कहलाती है, धनु में प्रवेश करते हैं तो धनु संक्रांति कहलाती और 14 जनवरी को सूर्य मकर में प्रवेश करते हैं तो इसे मकर संक्रांति के रूप में पहचाना जाता है।

मकर राशि में सूर्य उत्तराषाढ़ा नक्षत्र के अंतिम तीन चरण, श्रवण नक्षत्र के चारों चरण और धनिष्ठा नक्षत्र के दो चरणों में भ्रमण करते हैं। उत्तरायण में सूर्य के प्रवेश का अर्थ कितना गहन है और आध्यात्मिक व धार्मिक क्षेत्र के लिए कितना पुण्यशाली है, इसका अंदाज सिर्फ भीष्म पितामह के उदाहरण से लगाया जा सकता है। महाभारत युग की प्रामाणिक आस्थाओं के अनुसार सर्वविदित है कि उस युग के महान नायक भीष्म पितामह शरीर से क्षत-विक्षत होने के बावजूद मृत्यु शैया पर लेटकर प्राण त्यागने के लिए सूर्य के उत्तरायण में प्रवेश का इंतजार कर रहे थे।

भीष्म ने इच्छा-मृत्यु का वर प्राप्त कर लिया था। ऐसी भी मान्यता है कि सूर्य के उत्तरायण में होने का अर्थ मोक्ष के द्वार खुलना है। जुलियन कैलेंडर के अनुसार तो लगभग 23 दिसंबर से ही उत्तरायण सूर्य के योग बन जाते हैं, परंतु भारतीय पंचांगों के अनुसार यह तिथि 14 जनवरी को ही आती है।

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार उत्तरायण के सूर्य के 6 माहों में देवताओं का एक दिन पूर्ण होता है और दक्षिणायन के सूर्य में उनकी एक रात पूरी होती है। इसी के साथ यह भी विश्वास जुड़ा है कि जो लोग उत्तरायण के सूर्य में प्राण त्यागते हैं उन्हें मोक्ष प्राप्त होता है और जो लोग दक्षिणायन के सूर्य में मृत्यु को प्राप्त होते हैं उन्हें पुनर्जन्म लेना पड़ता है। इसलिए सूर्य के उत्तरायण को संसार में जन्म-मृत्यु के आवागमन से मुक्ति का मार्ग भी मानते हैं।

मकर संक्रांति पर स्नान, व्रत, अनुष्ठान, पूजन, हवन, यज्ञ, वेद पाठ, अभिषेक, दान आदि का विशेष महत्व है। ऐसी भी मान्यता है कि इस तारीख से दिन रोज तिल भर बढ़ने लगते हैं, इसलिए इसे तिल संक्रांति के रूप में भी मनाया जाता है। अँगरेजी महीनों के हिसाब से तो दिसंबरमें ही बड़े दिन होने लगते हैं। परंतु भारतीय पंचांग में मकर संक्रांति या तिल संक्रांति से बड़े दिन माने जाते हैं।

यह मौसम के परिवर्तन का सूचक भी है। सबसे पहले तो नियम-संयम से पवित्र नदी में स्नान करने को महत्व दिया गया है। यदि पवित्र गंगा का स्नान हो जाएतो सोने में सुहागा जैसी बात हो जाएगी। गंगा स्नान न हो पाए तो नर्मदा, क्षिप्रा, गोदावरी कोई भी नदी स्नान के लिए उपयुक्त है। इस पर्व पर तिल का इतना महत्व है कि स्नान करते समय जल में तिल डालकर स्नान करने का विधान है। तिल हमेशा से ही यज्ञ-हवन सामग्री में प्रमुखवस्तु माना गया है। मकर संक्रांति में तिल खाने से तिलदान तक की अनुशंसा शास्त्रों ने की है। संक्रांति पर देवों और पितरों को कम से कम तिलदान अवश्य करना चाहिए। सूर्य को साक्षी रखकर यह दान किया जाता है, जो अनेक जन्मों तक सूर्यदेव देने वाले को लौटाते रहते हैं। कहीं-कहीं तीन पात्रों में भोजन रखकर- 'यम, रुद्र एवं धर्म' के निमित्त दान दिया जाता है। अपनी सामर्थ्य के अनुरूप दान करना चाहिए।

भूखों, असहाय लोगों और जरूरतमंदों को खिलाना ज्यादा पुण्यदायी है। संक्रांति व्रत की विधि भी विस्तार से बताई गई है। इसकेअनुसार स्नान से निवृत्ति के पश्चात अक्षत का अष्टदल कमल बनाकर सूर्य की स्थापना कर पूजन करना चाहिए। बंङ ऋषि के अनुसार यह व्रत निराहार, साहार, नक्त या एकमुक्त तरीके से यथाशक्ति किया जा सकता है, जिससे पापों का क्षय हो जाता है और समृद्धि का मार्ग प्रशस्त होता है।

 
 
More Saral Jyotish Upay
 
भगवती सरस्वती के ये मंत्र देंगे आपको ज्ञान, विद्या, धन और सुख-समृद्धि


वसंत ऋतु का स्वागत करने के लिए माघ महिने के पांचवें दिन वसंत पंचमी का त्योहार मनाया जाता है। ऐसा माना जाता है क
    
शुभ फलदायी है मां सरस्वती के 12 नाम..., अवश्य पढ़ें...

अगर आप मां सरस्वती के मंत्र, श्लोक आदि नहीं जानते हैं तो भी आपको परेशान होने की जरूर‍त नहीं है। देवी सरस्वती के मा
    
वसंत पंचमी क्यों शुभ है, यह 7 बातें जरूर पढ़ें...
वसंत पंचमी विद्या, ज्ञान और बुद्धि की देवी मां सरस्वती की आराधना, उपासना और पूजा का पर्व है। इस दिन को क्यों खास मान
    
गुप्त नवरात्रि की पंचमी तिथि पर प्रकट हुई थीं मां सरस्वती


माघ शुक्लपक्ष पंचमी जिसे वसंत पंचमी कहा जाता है। वसंत पंचमी के दिन विद्या की अधिष्ठात्री देवी मां सरस्वती का अ
    
बेहतरीन वक्ता बनना है तो मां सरस्वती को इन राशि मंत्रों से प्रसन्न करें
प्रतिदिन राशि के अनुसार मंत्र जपने से मां शारदा सुख, संपत्ति, विद्या, बुद्धि, यश, कीर्ति, पराक्रम, प्रतिभा और विलक्ष
    
ज्ञान की देवी मां सरस्वती का पर्व है वसंत पंचमी, पूजन मुहूर्त
वसंत पंचमी वसंत के आगमन का सूचक होती है। यह पर्व माघ मास में शुक्ल पक्ष की पंचमी के दिन मनाया जाता है। इस बार यह पर्व
    
Saraswati Puja During Vasant Panchami � Experience Spiritual Divinity While Seeking Knowledge from the Goddess of Wisdom
According to the Hindu mythology Vasant Panchami is celebrated as birthday of Goddess Saraswati and coming of spring. Vasant Panchami is celebrated all across the India. Vasant Panchami is also known as Saraswati Pooja.

Vasant Panchami Date 2018 -

22nd Jan 2018 (Monday)
    
मकर संक्रांति : सूर्य के उत्तरायन का मंगल पर्व


उत्तरायण में सूर्य के प्रवेश का अर्थ कितना गहन है और आध्यात्मिक व धार्मिक क्षेत्र के लिए कितना पुण्यशाली है, इस
    
माघ मास का हर दिन है पवित्र, समस्त पापों से देता है छुटकारा


* विशेष ऊर्जा की प्राप्ति कराता है माघ मास, इस माह अवश्य करें नदी स्नान

* हिन्दुओं को सर्वाधिक प्रिय माघ मही
    
    
2018 Yearly Horoscope
Aries    |    Taurus   |    Gemini   |    Cancer   |    Leo   |    Virgo   |    Libra   |    Scorpio   |    Sagitarius   |    Capricorn   |    Aquarius   |    Pisces 
 
 
 
 
 
 
Aries Horoscope 2018 Cancer Horoscope 2018 Libra Horoscope 2018 Capricorn Horoscope 2018 Yearly Horoscope 2018
Taurus Horoscope 2018 Leo Horoscope 2018 Scorpio Horoscope 2018 Aquarius Horoscope 2018 Saral Jyotish Upayas
Gemini Horoscope 2018 Virgo Horoscope 2018 Sagitarius Horoscope 2018 Pisces Horoscope 2018  
   
       
 
  CONNECT WITH US   PROFESSIONAL READINGS   PROFESSIONAL READINGS   LEARN ASTROLOGY

 Online Regular Course
 Online Virtual Classes Course

NEED HELP

+91-98-9984-2558,   harshkm@gmail.com

 
   
 
Home   |   About Us     |     Services    |   Remedies   |   Products    |   Payment Method    |   Articles    |   Contact Us