About Us  |  Contact Us  |  Faq's   |  Call :: 9899842558    
2017 Gemini Horoscope

              All Horoscope

 
Online Astrology Course 1&2 Month Course 6&12 Month Course
How to learn online Syllabus  Fees & Payments
100+ Case Studies  
            JOIN FREE   STUDENT LOGIN
Saral Jyotish Upay - जानिए, कुंडली के बारह भावों में सूर्य का असर...
Education  |  Marriage  |  Career  |  Foreign Travel  |  Gem Stones  |   All Reports  |   Remedies  |  Products  | Free Numerology Predictions |  New User  |   Sign In
   
         
         
SERVICES
 
Phone Consultation
Detailed Life Guidance
Vastu Consultation
Birth Time Rectification
Post Marriage Problems
Match Making
Business Prospects
Health
All Reports
ONLINE VEDIC COURSES
Online Regular Classes
Excellent Syllabus
Payment Methods
Astro Shop
 
Saral Jyotish Upayas
Astrology Remedies for Life Problems
Astrology Remedies for Life Problems
Goddess LAKSHMI MANTRA for money and finance
 
 
कुंडली में होते हैं कैसे-कैसे राजयोग, पढ़ें विश्लेषण - Saral Jyotish Upay
 
 


राजयोग का नाम सुनते ही लोगों के में मस्तिष्क में किसी बड़े पद का ख़्याल आ जाता है। वे सोचने लगते हैं कि राजयोग यदि जन्मपत्रिका में है तो वे निश्चित ही कोई बड़े राजनेता,उद्योगपति या नौकरशाह बनेंगे। उन्हें अकूत धन-सम्पदा और सामाजिक प्रतिष्ठा की प्राप्ति होगी। लेकिन वास्तव में यह ज्योतिषीय राजयोग के मानक नहीं है। मेरी ज्योतिषीय राजयोग परिकल्पना में राजयोग का अर्थ है वह जीवन जिसमें किसी भी प्रकार की असंतुष्टि ना हो, वह व्यक्ति जो अपने आप में पूर्ण संतुष्ट व आनन्दित हो जैसे बुद्ध, महावीर।

ऐसा राजयोग बहुत कम फ़लित होता है। बुद्ध और महावीर राजपुत्र थे। बुद्ध की जन्मपत्रिका में राजयोग था लेकिन बुद्ध का राजयोग बड़े दूसरे प्रकार से फ़लित हुआ। सांसारिक अर्थों में तो बुद्ध भिक्षु थे लेकिन ऐसे अप्रतिम भिक्षु जिनके आगे सम्राट अपने मस्तक झुकाते थे। सामान्य जनमानस की राजयोग की परिभाषा अलग होती है लेकिन ज्योतिषीय राजयोग की बिल्कुल अलग।

किसी राजयोग का फ़लित कहने से पूर्व एक ज्योतिषी के लिए जातक की जन्मपत्रिका के अन्य बुरे व अशुभ योगों का आनुपातिक अध्ययन करना आवश्यक है। केवल एक राजयोग का जन्मपत्रिका में सृजन हो जाने मात्र से जीवन सानन्द व्यतीत होगा ऐसा नहीं कहा जा सकता जब तक कि जन्मपत्रिका के अन्य विविध योगों का अध्ययन ना कर लिया जाए। ज्योतिष शास्त्र में कई प्रकार के राजयोगों का वर्णन हैं। आइए कुछ प्रमुख राजयोगों के बारे में जानते हैं-

विपरीत राजयोग-

"रन्ध्रेशो व्ययषष्ठगो,रिपुपतौ रन्ध्रव्यये वा स्थिते।
रिःफेशोपि तथैव रन्ध्ररिपुभे यस्यास्ति तस्मिन वदेत,
अन्योन्यर्क्षगता निरीक्षणयुताश्चन्यैरयुक्तेक्षिता,
जातो सो न्रपतिः प्रशस्त विभवो राजाधिराजेश्वरः॥"

जब छठे,आठवें,बारहवें घरों के स्वामी छठे,आठवे,बारहवें भाव में हो अथवा इन भावों में अपनी राशि में स्थित हों और ये ग्रह केवल परस्पर ही युत व दृष्ट हो, किसी शुभ ग्रह व शुभ भावों के स्वामी से युत अथवा दृष्ट ना हों तो 'विपरीत राजयोग' का निर्माण होता है। इस योग में जन्म लेने वाला मनुष्य धनी,यशस्वी व उच्च पदाधिकारी होता है।

नीचभंग राजयोग-

जन्म कुण्डली में जो ग्रह नीच राशि में स्थित है उस नीच राशि का स्वामी अथवा उस राशि का स्वामी जिसमें वह नीच ग्रह उच्च का होता है, यदि लग्न से अथवा चन्द्र से केन्द्र में स्थित हो तो 'नीचभंग राजयोग' का निर्माण होता है। इस योग में जन्म लेने वाला मनुष्य राजाधिपति व धनवान होता है।

अन्य राजयोग-

1- जब तीन या तीन से अधिक ग्रह अपनी उच्च राशि या स्वराशि में होते हुए केन्द्र में स्थित हों।
2- जब कोई ग्रह नीच राशि में स्थित होकर वक्री और शुभ स्थान में स्थित हो।
3- तीन या चार ग्रहों को दिग्बल प्राप्त हो।
4- चन्द्र केन्द्र में स्थित हो और गुरु की उस पर दृष्टि हो।
5- नवमेश व दशमेश का राशि परिवर्तन हो।
6- नवमेश नवम में व दशमेश दशम में हो।
7- नवमेश व दशमेश नवम में या दशम में हो।

 
 
More Saral Jyotish Upay
 
जानिए, कुंडली के बारह भावों में सूर्य का असर...


1. लग्न में सूर्य हो तो जातक स्वाभिमानी, क्रोधी, पित्
    
ग्रहों में प्रमुख सूर्यदेव : पढ़ें 10 विशेष बातें


1. जब ब्रह्माजी अण्ड का भेदन कर उत्पन्न हुए, तब उनके ë
    
शुक्रवार को इस विधि से करें गोवर्धन पूजा, ये हैं शुभ मुहूर्त व कथा
कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा यानी दीपावलì
    
कुंडली में होते हैं कैसे-कैसे राजयोग, पढ़ें विश्लेषण


राजयोग का नाम सुनते ही लोगों के में मस्तिष्क में क&#
    
यह 11 प्रकार के गणेश काटेंगे सारे क्लेश


किसी भी कार्य में सबसे पहले श्रीगणेश का ही नाम लिय&#
    
हत्थाजोड़ी : 5 आश्चर्यजनक लाभ देती है यह दुर्लभ जड़ीबूटी


हमारी सनातन संस्कृति में प्रकृति को परमात्मा सदí
    
दमकते चांद की शीतल रात, शरद पूर्णिमा की रात


शरद ऋतु, पूर्णाकार चंद्रमा, संसार में उत्सव का माह&#
    
शरद पूर्णिमा की रात प्रसन्न करें इन 5 देवों को, पढ़ें विशेष मंत्र
शरद पूर्णिमा मां लक्ष्मी, चंद्र देव, भगवान शिव, कुबे&#
    
5 अक्टूबर को है शरद पूर्णिमा, पढ़ें 8 काम की बातें


दशहरे से शरद पूर्णिमा तक चन्द्रमा की चांदनी विशे
    
    
2017 Yearly Horoscope
Aries    |    Taurus   |    Gemini   |    Cancer   |    Leo   |    Virgo   |    Libra   |    Scorpio   |    Sagitarius   |    Capricorn   |    Aquarius   |    Pisces 
 
Free Numerology Reading
 
The free numerology reading form is further below. Use the reading form to get your free reading. And for the rest of your family. Simply fill in the form and click the button. The next page will have your free reading.

   

 
 
 
 
Aries Horoscope 2017 Cancer Horoscope 2017 Libra Horoscope 2017 Capricorn Horoscope 2017 Yearly Horoscope 2017
Taurus Horoscope 2017 Leo Horoscope 2017 Scorpio Horoscope 2017 Aquarius Horoscope 2017 Saral Jyotish Upayas
Gemini Horoscope 2017 Virgo Horoscope 2017 Sagitarius Horoscope 2017 Pisces Horoscope 2017  
   
       
 
  CONNECT WITH US   PROFESSIONAL READINGS   PROFESSIONAL READINGS   LEARN ASTROLOGY

 Online Regular Course
 Online Virtual Classes Course

NEED HELP

+91-98-9984-2558,   harshkm@gmail.com

 
   
 
Home   |   About Us     |     Services    |   Remedies   |   Products    |   Payment Method    |   Articles    |   Contact Us